up news: Crime in Greater Noida: लुटेरों ने चलते ऑटो से इंजीनियर को खींचा, लूट ले गए मोबाइल, इंजिनियर अस्पताल में भर्ती – criminals snatched mobile of engineer in greater noida from running auto youth hospitalized

नोएडा
ग्रेटर नोएडा के एंट्री पॉइंट परी चौक पर क्राइम कंट्रोल के लिए दो-दो पुलिस चौकियां बनी हैं। 5 सीसीटीवी कैमरे लगे हैं, लेकिन इन सब के बावजूद बदमाश आए दिन बेखौफ होकर वारदात को अंजाम दे रहे हैं। ऐसे में पुलिस की ओर से किए जा रहे दावे और सुरक्षा के उपायों पर सवाल खड़ा हो रहा है।

बुधवार रात परी चौक पुलिस चौके से मजज 100 मीटर की दूरी पर बाइक सवार बदमाशों ने मोबाइल लूटने के लिए चलते ऑटो से खींचकर इंजीनियर को सड़क पर गिरा दिया। इंजीनियर के सिर में 20 टाकें आए हैं। आरोप यह भी है वारदात की सूचना देने के बाद 5 मिनट की दूरी पर मौजूद पुलिस करीब ढाई घंटे बाद पहुंची। पुलिस मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच में जुटी है।

ड्यूटी पर जाते समय हुआ हादसा
सेक्टर डेल्टा-1 में रहने वाले आकाश कुमार ओपो मोबाइल कंपनी में इंजीनियर हैं। बुधवार को नाइट शिफ्ट के लिए रात करीब सवा आठ बजे ऑटो से ड्यूटी जा रहे थे। ऑटो में वह मोबाइल पर बात कर रहे थे। परीचौक के पास से गुजरने के दौरान बाइक सवार दो बदमाशों ने झपट्टा मारकर मोबाइल लूटने की कोशिश की। आकाश ने विरोध किया तो बदमाशों ने उनको खींच कर ऑटो से बाहर सड़क पर गिरा दिया।

…तो जा सकती थी इंजिनियर की जान
सड़क से टकराने की वजह से सिर फट गया और खून बहने लगा। इसके अलावा उनके हाथ, कोहनी व गर्दन में चोट लगी। इसके बाद बदमाश उसका मोबाइल लूट कर फरार हो गए। ऑटो चालक आकाश को लेकर कैलाश अस्पताल पहुंचा। इसके बाद मामले की सूचना पीड़ित के दोस्तों को दी गई। बदमाशों ने जब इंजीनियर को ऑटो से खींचकर सड़क पर गिराया तो पीछे से कोई वाहन नहीं आ रहा था। अगर कोई वाहन पीछे से तेज स्पीड में आज ज्यादा तो उनकी जान भी जा सकती।

पुलिस की लापरवाही आई सामने
परीचौक से कैलाश अस्पताल की दूसरी महज पांच मिनट की है। हैरानी की बात है कि पुलिस ने अस्पताल पहुंचने में ढाई घंटे लगा दिए। पीआरवी को पहले ही सूचना दे दी गई थी। ऑटो चालक की हिम्मत के चलते ही इंजीनियर की जान बची। डॉक्टरों के मुताबिक खून ज्यादा बह गया था यदि समय पर घायल को अस्पताल न पहुंचाया जाता तो अनहोनी हो सकती थी।