The Meeting Of Social Audit Was Uproar – सोशल आडिट की बैठक

ख़बर सुनें

हंगामेदार रही सोशल आडिट की बैठक
गौरी नरोत्तम गांव में होनी थी बैठक, दो जगह जुटे मजदूर
संवाद न्यूज एजेंसी
तमकुहीराज। तमकुही के गौरी नरोत्तम गांव में सोशल ऑडिट की बैठक काफी हंगामेदार रही। सोशल आडिट के दौरान ग्राम प्रधान की अगुवाई में 150 से अधिक मनरेगा मजदूर एकत्रित हुए। वहीं दूसरी जगह रोजगार सेवक की मौजूदगी में 50 से अधिक मजदूर बैठक कराने का प्रयास करने लगे। दो भिन्न स्थानों पर सोशल ऑडिट की बैठक कराने को लेकर तनाव उत्पन्न हो गया।
मनरेगा एवं प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत ग्राम पंचायतों में कराए गए कार्यों में पारदर्शिता लाने के उद्देश्य से सरकार सोशल आडिट करा रही है। बुधवार को तमकुही विकास खंड के गौरी नरोत्तम में सोशल ऑडिट की बैठक कराने गई ऑडिट टीम असमंजस में पड़ गई। कारण यह रहा कि प्रधान व रोजगार सेवक की अगुवाई में दो जगह एकत्रित मनरेगा मजदूर अपने-अपने स्थान पर ऑडिट कराने की मांग पर अड़ गए। जूनियर हाईस्कूल गौरी नरोत्तम में ग्राम प्रधान ओमप्रकाश यादव की अगुवाई में 150 से अधिक मनरेगा मजदूर व ग्रामीण उपस्थित होकर बैठक का इंतजार कर रहे थे। दूसरी तरफ रोजगार सेवक हरिकृष्ण यादव की अगुवाई में पंचायत भवन पर 50 से अधिक मजदूर उपस्थित थे। दोनों लोग अपने-अपने स्थान पर ऑडिट के लिए टीम पर दबाव बना रहे थे। उसे लेकर गांव में तनाव का माहौल था। टीम ने मामले की जानकारी उच्चाधिकारियों को दी। उच्चाधिकारियों के निर्देश पर अधिक संख्या वाले स्थान पर सोशल ऑडिट संपन्न कराई गई। सोशल ऑडिट के दौरान मजदूरों ने शिकायत किया कि रोजगारसेवक उनकी डिमांड को स्वीकार नहीं कर रहे हैं। मनरेगा कार्य करने से भी रोका जा रहा है। इस दौरान उमेश कुमार, अजय प्रसाद, रिंकू देवी, रामबली राय, जितेंद्र, रामेश्वर, नरेश आदि मौजूद थे। ब्लॉक कोआर्डिनेटर कलीमुल्लाह ने बताया कि गौरी नरोत्तम में सोशल ऑडिट को लेकर थोड़ा विवाद हुआ था। बाद में ऑडिट की बैठक सकुशल संपन्न हो गया। हालांकि रोजगार सेवक के नहीं आने से आवश्यक प्रपत्रों की जांच नहीं हो सकी है।

हंगामेदार रही सोशल आडिट की बैठक

गौरी नरोत्तम गांव में होनी थी बैठक, दो जगह जुटे मजदूर

संवाद न्यूज एजेंसी

तमकुहीराज। तमकुही के गौरी नरोत्तम गांव में सोशल ऑडिट की बैठक काफी हंगामेदार रही। सोशल आडिट के दौरान ग्राम प्रधान की अगुवाई में 150 से अधिक मनरेगा मजदूर एकत्रित हुए। वहीं दूसरी जगह रोजगार सेवक की मौजूदगी में 50 से अधिक मजदूर बैठक कराने का प्रयास करने लगे। दो भिन्न स्थानों पर सोशल ऑडिट की बैठक कराने को लेकर तनाव उत्पन्न हो गया।

मनरेगा एवं प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत ग्राम पंचायतों में कराए गए कार्यों में पारदर्शिता लाने के उद्देश्य से सरकार सोशल आडिट करा रही है। बुधवार को तमकुही विकास खंड के गौरी नरोत्तम में सोशल ऑडिट की बैठक कराने गई ऑडिट टीम असमंजस में पड़ गई। कारण यह रहा कि प्रधान व रोजगार सेवक की अगुवाई में दो जगह एकत्रित मनरेगा मजदूर अपने-अपने स्थान पर ऑडिट कराने की मांग पर अड़ गए। जूनियर हाईस्कूल गौरी नरोत्तम में ग्राम प्रधान ओमप्रकाश यादव की अगुवाई में 150 से अधिक मनरेगा मजदूर व ग्रामीण उपस्थित होकर बैठक का इंतजार कर रहे थे। दूसरी तरफ रोजगार सेवक हरिकृष्ण यादव की अगुवाई में पंचायत भवन पर 50 से अधिक मजदूर उपस्थित थे। दोनों लोग अपने-अपने स्थान पर ऑडिट के लिए टीम पर दबाव बना रहे थे। उसे लेकर गांव में तनाव का माहौल था। टीम ने मामले की जानकारी उच्चाधिकारियों को दी। उच्चाधिकारियों के निर्देश पर अधिक संख्या वाले स्थान पर सोशल ऑडिट संपन्न कराई गई। सोशल ऑडिट के दौरान मजदूरों ने शिकायत किया कि रोजगारसेवक उनकी डिमांड को स्वीकार नहीं कर रहे हैं। मनरेगा कार्य करने से भी रोका जा रहा है। इस दौरान उमेश कुमार, अजय प्रसाद, रिंकू देवी, रामबली राय, जितेंद्र, रामेश्वर, नरेश आदि मौजूद थे। ब्लॉक कोआर्डिनेटर कलीमुल्लाह ने बताया कि गौरी नरोत्तम में सोशल ऑडिट को लेकर थोड़ा विवाद हुआ था। बाद में ऑडिट की बैठक सकुशल संपन्न हो गया। हालांकि रोजगार सेवक के नहीं आने से आवश्यक प्रपत्रों की जांच नहीं हो सकी है।