Raigarh Gharana Of Kathak – आर्ट एंड कल्चर: नृत्य जिसमें है शास्त्रीय और लोक परम्परा का अनूठा उजास

कथक का रायगढ़ घराना…

कथक के रायगढ़ घराने का अधिक नाम नहीं लिया जाता, पर शास्त्रीय व लोक परम्परा का अनूठा उजास लिए यह घराना नृत्य की एक तरह से ‘संहिता’ है। माने एकत्र ज्ञान का संचित कोष।

डॉ. राजेश कुमार व्यास, (कला समीक्षक)

कथक शब्द कहन कला से जुड़ा है। मंदिरों में जन्मे कथक का आरम्भ में जयपुर और लखनऊ घराना ही प्रमुख था, पर इन दोनों के मेल से बनारस घराना भी सामने आया। कथक के रायगढ़ घराने का अधिक नाम नहीं लिया जाता, पर शास्त्रीय व लोक परम्परा का अनूठा उजास लिए यह घराना नृत्य की एक तरह से ‘संहिता’ है। माने एकत्र ज्ञान का संचित कोष। असल में राजा चक्रधर सिंह ने कथक में भाषा, भाव और रस का इस घराने के जरिए लूंठा मेल किया है। कथक के बिखर रहे अतीत को परम्परा से उन्होंने एक तरह से संस्कारित किया है। इसीलिए इसमें कहीं कोई घाल-मेल नजर नहीं आता। बोल इतने ध्वन्यात्मक कि दृश्यभाषा में जीवंत होते हैं। पढ़न्त में अर्थ के गवाक्ष दर गवाक्ष खुलते हैं। उर्दू शब्दावली की बजाय संस्कृत की शब्दावली और नृत्य लावण्य से समृद्ध है यह नृत्य। प्रकृति से जुड़ी ध्वनियों का, अंतर्मन संवेदनाओं का विरल ताल सौंदर्य इसमें है। पर यह विडम्बना है कि नृत्य आलोचना में शुद्धता से जुड़े इस नृत्य के ये पक्ष सदा ही गौण रहे हैं।

बहरहाल, घुंघरुओं के माधुर्य में भावों का समन्दर लखनऊ और जयपुर घराने में भी नर्तक रचता है, पर रायगढ़ घराने में पढ़न्त की अपनी रस निस्पति है। परनों या बंदिशों का नामकरण देखें – दलबादल, गजविलास, किलकिला, पक्षी परन आदि। राजा चक्रधर सिंह ने रायगढ़ घराने में भाव पक्ष को अधिक महत्त्व दिया। शायद इसलिए कि आंगिक मुद्राएं भावहीन होती बहुतेरी बार नृत्य में यांत्रिकता लाती हैं। मूलत: यह घराना लोकोन्मुख है। अल्लाह जिलाई बाई ने जिस तरह गुणीजन खाने में तालीम लेते हुए राजस्थानी मांड ‘पधारो म्हारे देश’ को बुलंदी पर पहुंचाया, ऐसे ही रायगढ़ दरबार में लोक के साथ घुली शास्त्रीयता की सहजता पर विचारने की जरूत है। राजा चक्रधर सिंह ने कभी छत्तीसगढ़ अंचल के लोक कलाकारों का चयन करके ही उन्हें कथक की विधिवत शिक्षा दिला इस घराने का सूत्रपात किया था। ऐसे समय में जब यह नृत्य विलास और मनोरंजन का नाच बन रहा था, उन्होंने इसे ज्ञान की साधना से जोड़ा।

लोक जीवन की सहज क्रियाएं और प्रकृति से जुड़ी ध्वनियां इसमें जीवंत होती देखने वाले के मन में बसती हैं। ‘जोड़ा’ भी खास है। लखनऊ, जयपुर व बनारस शैली की रचनाओं को लेकर ऐसे बहुत से जोड़े इसमें बने हैं जिनमें ताण्डव व लास्य के बोल हैं। छंद का लाक्षणिक प्रयोग है। सोचता हूं, पृथक से रायगढ़ घराने की दरकार आखिर क्योंकर पड़ी? शायद इसलिए कि कथक उस समय मनोरंजन क्रिया बन उजाड़ पर था। राजा चक्रधर ने इसीलिए भरतमुनि के नाट्यशास्त्र, संगीत रत्नाकर आदि गं्रथों से प्रेरणा ले नवीन गं्रथ रचे। लोक की सहजता को अंवेरते नृत्य की शास्त्रीयता को परोटा। पर यह विडम्बना है कि इस घराने की उनकी सोच के अनुरूप बढ़त नहीं हुई। पारम्परिक कलाकार भी सीखे हुए में बढ़त करने की ओर प्रवृत्त नहीं हुए। इसी से इसका वर्तमान उपेक्षित-सा लगता है।