Lifestyle – जिदंगी – Amar Ujala Kavya

                
                                                             
                            जिये जा जिदंगी जिये जा,
                                                                     
                            
न कर शिकवा न कर गिला किसी से,
जिये जा जिदंगी जिये जा,
होता न दर्द तो क्या होता,
होता न गम तो क्या होता,
तुझे पता है
तुझे पता है
तेरे बस का कुछ नहीं,
तू क्यूं उड़ता है आसमानोंं मेंं,
तू जानता है
तू जानता है
कोई अपना है न कोई पराया।
बस जिये जा जिदंगी जिये जा,
तुम मिलोगे भी किसी से,
किसी से बिछुड़ोगे भी,
किसी कि सुनोगे भी,
किसी को सुनाओगे भी,
पर याद रखना
पर याद रखना
दिल ना दुःख जाये कहीं तुमसे किसी का,
ये ख्याल रखना ।
तू सुनता भी रह,सुनाता भी रह,
गाता भी रह,गुनगुनाता भी रह।
बस जिये जा जिदंगी जिये जा,
 
- हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है।  आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करे।

46 minutes ago