Court sent the accused to jail for hurting religious buildings

प्राचीन मंदिर तोडऩे का मामला

बीना/मंडीबामोरा. मढ़बामोरा में प्राचीन मढिय़ा को गिराने के मामले में पुलिस ने चार आरोपियों को गिरफ्तार किया है, जिन्हें न्यायालय ने गुरूवार को जेल भेज दिया। दरअसल मढ़बामोरा में प्राचीन मंदिर को कुछ लोगों ने जेसीबी से गिराकर खुदाई की थी और इस मामले मामले में लगातार दबाव के बाद पुलिस ने गुरुवार की सुबह से ही कार्रवाई करके चार आरोपी राहुल कठरया, समीर जैन, सोनू उर्फ आशीष जैन, रिंकू उर्फ अरुण जैन को गिरफ्तार किया। पुलिस ने पूछताछ करने के बाद आरोपियों को जेएमएफसी संतोष तिवारी की कोर्ट में पेश किया। शासन की ओर से एडीपीओ श्यामसुंदर गुप्ता ने न्यायालय में अपना पक्ष रखा कि आरोपियों द्वारा कराई गई मंदिर की खुदाई से जनसामान्य की धार्मिक भावनाएं आहत हुई हैं और शहर का सांप्रादायिक सदभाव बिगडऩे की संभावना है, इसलिए उन्हें गिरफ्तार किया है। न्यायालय ने सभी आरोपियों को जेल वारंट जारी कर उन्हें खुरई जेल भेजा दिया। गुरुवार को जमानत पर सुनवाई नहीं हो सकी।
अधिवक्ताओं ने जमानत पर लगाई आपत्ति
आरोपियों को गिरफ्तार कर जब कोर्ट में पेश किया गया तो अखिल भारतीय संयुक्त अधिवक्ता संघ ने जमानत पर आपत्ति दर्ज कराई, जिसमें अधिवक्ताओं ने कहा कि पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ धारा 295, 34 के तहत मामला दर्ज किया है। आरोपियों ने जिस प्राचीन मंदिर को तोड़ा है वह हिन्दुओं की आस्था का केन्द्र है। मढ़बामोरा में भगवान शिव का प्राचीन मंदिर है, जहां पर महाभारत काल के अवशेष अभी भी सुरक्षित है। आरोपियों के किए गए कृत्य से हिंदू धर्म की आस्था को ठेस पहुंची है, क्योंकि मंदिर में श्री कारसदेव का मंदिर तोड़ा गया है, जहां पर लोग पूजा करने के लिए आते है। आपत्ति लगाने वालों में अधिवक्ता राहुल माथुर, राजकमल सोनी शामिल हैं।






Show More