पुरुष और महिला क्रिकेट में होते हैं ये 7 अंतर, महिलाओं के टेस्ट क्रिकेट में नहीं होती हैं ये चीजें

भारतीय महिला क्रिकेट टीम ऑस्ट्रेलिया दौरे पर है, जहां आज से ऑस्ट्रेलिया (India-W vs Australia-W)के खिलाफ पिंक टेस्ट मैच खेल रही है. 2021 में भारतीय महिला क्रिकेट टीम दूसरी बार टेस्ट मैच खेल रही है. 14 साल में यह सिर्फ दूसरा मौका है जब भारतीय महिला टीम (Indian Womens Team) एक साल में दो टेस्ट मैच खेल रही है. महिला और पुरूष टेस्ट में कई अंतर होते हैं जिसे इस आर्टिकल में बताने जा रहे हैं.

साल में 2 टेस्ट खेलती है महिला टीम

पुरुष और महिला क्रिकेट में होते हैं ये 7 अंतर, महिलाओं के टेस्ट क्रिकेट में नहीं होती हैं ये चीजें 2

महिला क्रिकेट टीमों (Womens Team) के टेस्ट मैच पुरुषों के अपेक्षा में बहुत कम होता है. भारतीय पुरुष ( Indian mens team) टीम सालाना औसतन 8 से 10 टेस्ट खेलती है, इसके विपरीत महिला टीम साल में दो टेस्ट से ज्यादा नहीं खेल पाती है. महिला और पुरूष टीमों के टेस्ट क्रिकेट मैच में एक दिन में ओवर फेकने की लीमिट से लेकर दिनों की संख्या में भी अंतर होता है. इस आर्टिकल के जरिए 7 ऐसे अंतर के बारे में जानेंगे जो टेस्ट मैच में महिलाओं और पुरुषों के टेस्ट मैच (Women’s Cricket vs Men’s Cricket)में होते हैं.

पुरुष और महिला क्रिकेट में होते हैं ये 7 अंतर, महिलाओं के टेस्ट क्रिकेट में नहीं होती हैं ये चीजें 3

  1.  पुरूषों का टेस्ट मैच 5 दिन का होता है, जबकि महिला क्रिकेट टेस्ट मैच 4दिन का होता है.
  2. पुरुष क्रिकेट में रोजाना 90 ओवर का खेल अनिवार्य है जबकि महिला क्रिकेट टेस्ट में एक दिन में न्यूनतम 100 ओवर की गेंदबाजी होती है.
  3. पुरुषों के मैच में गेंद का वजन 156 ग्राम से कम नहीं होना चाहिए दूसरी तरफ महिला क्रिकेट टेस्ट में गेंद का वजन कम से कम 142 ग्राम होना चाहिए.
  4. पुरुषों के टेस्ट मैच में बाउंड्री कम से कम 59 मीटर और अधिकतम 82 मीटर है, दूसरी तरफ महिला टेस्ट मैच में बाउंड्री कम से कम 55 मीटर और अधिकतम 64 मीटर हो सकती है.
  5. पुरुष क्रिकेट में डीआरएस का यूज होता है जिसमें खिलाड़ी अंपायर के फैसले को चुनौती दे सकता है. जबकि महिला क्रिकेट टेस्ट में डीआरएस का इस्तेमाल नहीं किया जा रहा है. हालांकि, मैदानी अंपायर तीसरे अंपायर की मदद ले सकते हैं.
  6. पुरुष टेस्ट मैच में एक ओवर फेकने के लिए औसतन 4 मिनट होते हैं, जबकि महिला टेस्ट मैच में एक ओवर करने के लिए औसतन 3.6 मिनट तय किए गए हैं.
  7. खिलाड़ियों के मैदान से बाहर रहने के लिए पेनल्टी टाइम भी अलग-अलग है. पुरुषों के मैच में यह वक्त 120 मिनट होता है वहीं, महिला टेस्ट मैच में यह वक्त 110 मिनट का है.